देश

दक्षिण कोरिया ने पीएम मोदी को सियोल शांति पुरस्कार से किया सम्मानित

नई दिल्ली : दक्षिण कोरिया की यात्रा पर पहुंचे पीएम मोदी को आज सियोल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया। सियोल के ब्लू हाउस में पीएम मोदी का दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति मून-जे-इन और फर्स्ट लेडी किम जंग सूक ने स्‍वागत किया। इस अवसर पर जहाँ पीएम मोदी ने भारत और दक्षिण कोरिया के रिश्तों की अहमियत को सबके सामने रखा, वहीँ उन्होंने कहा कि सियोल शांति पुरस्कार का मिलना मेरे लिए सम्मान का विषय है।

पीएम मोदी ने कहा कि मैंने अनुभव किया है कि भारत की एक्‍ट ईस्‍ट पॉलिसी और कोरिया की नई दक्षिणी नीति का तालमेल हमारी विशेष रणनीतिक साझेदारी को मजबूती देने का मंच प्रदान कर रहा है।’ बता दें कि दक्षिण कोरिया में पीएम मोदी को शांति पुरस्‍कार दिया जा रहा है। मोदी सियोल शांति पुरस्कार पाने वाले 14वें व्यक्ति हैं।

उन्‍होंने कहा, ‘मैं जब प्रधानमंत्री नहीं बना था, तब से यह बात कहता आ रहा हूं कि भारत के विकास के लिए कोरिया का मॉडल शायद सबसे अनुकरणीय हैं। कोरिया की प्रगति भारत के लिए प्रेरणा का स्रोत है। इसलिए कोरिया की यात्रा करना मेरे लिए प्रसन्‍नता का विषय होता है। पिछले दिनों पुलवामा में हुआ आतंकी हमले के बाद राष्‍ट्रपति मून के संवेदना और समर्थन भरे संदेश के लिए मैं दिल से उनका आभार प्रदान करता हूं।’

पीएम मोदी ने कहा कि इंडो-पैसिफिक के संबंध में भारत का विजन समावेशिता, आसियान की केन्द्रीयता और साझी समृद्धि पर विशेष जोर देता है। पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद, राष्ट्रपति मून के संवेदना और समर्थन के संदेश के लिए हम उनके आभारी हैं। हम आतंकवाद के खिलाफ अपने द्विपक्षीय और अंतर्राष्ट्रीय सहयोग और समन्वय को और अधिक मजबूत करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

पीएम ने कहा कि आज भारत के गृह मंत्रालय और कोरिया की राष्ट्रीय पुलिस एजेंसी के बीच संपन्न हुआ एमओयू हमारे आतंकवाद विरोधी सहयोग को और आगे बढ़ाएगा। अब समय आ गया है कि वैश्विक समुदाय भी बातों से आगे बढ़ कर, इस समस्या के विरोध में एकजुट हो कर कार्यवाही करें।

उन्‍होंने कहा कि हमारी बढ़ती साझेदारी में रक्षा क्षेत्र की अहम भूमिका है। इसका उदहारण भारतीय थल सेना में के-9 ‘वज्र’ आर्टिलरी गन के शामिल होने में देखा जा सकता है। रक्षा उत्पादन में सहयोग को आगे बढ़ाने के लिए हमने रक्षा तकनीक और सह-निर्माण पर एक रोडमैप बनाने के लिए भी सहमति की है।

Related Articles

1,728 Comments

  1. I urge you to avoid this site. My own encounter with it has been only dismay as well as suspicion of scamming practices. Exercise extreme caution, or better yet, find an honest site for your needs.

  2. I highly advise to avoid this platform. My personal experience with it was nothing but disappointment along with doubts about fraudulent activities. Proceed with extreme caution, or better yet, seek out a trustworthy platform to meet your needs.

  3. I strongly recommend to avoid this site. My personal experience with it has been nothing but disappointment as well as suspicion of fraudulent activities. Be extremely cautious, or better yet, find a trustworthy platform to meet your needs.

  4. I strongly recommend steer clear of this platform. My own encounter with it has been purely disappointment as well as suspicion of fraudulent activities. Proceed with extreme caution, or even better, find a more reputable platform to meet your needs.

  5. I urge you stay away from this site. My own encounter with it was nothing but frustration along with suspicion of deceptive behavior. Be extremely cautious, or even better, seek out a trustworthy service to fulfill your requirements.

  6. I urge you stay away from this site. My personal experience with it was nothing but frustration and suspicion of deceptive behavior. Be extremely cautious, or even better, find a trustworthy service to meet your needs.

  7. I strongly recommend steer clear of this site. The experience I had with it has been purely disappointment along with doubts about scamming practices. Exercise extreme caution, or better yet, look for a trustworthy site for your needs.