कवर्धादेश

मंत्री अकबर व कांग्रेस को बदनाम करने पर तुले वसूलीबाज, कांग्रेसी व जनता नाराज

 कांग्रेस के दलाल – हो रहे मालामाल …?

आम जनता के बीच मंत्री मो.अकबर की छवि अत्यंत ईमानदार व जनता के लिए समर्पित राजनेता की बनी हुई है , जिसे उनके इर्दगिर्द मंडराने वाले दलाल किस्म के युवा नेता अपने स्वार्थ के लिए बर्बाद कर रहे है

बेबाक कलम / डी.एन. योगी 

डी.एन.योगी, प्रधान संपादक कबीर क्रांति
डी.एन.योगी, प्रधान संपादक कबीर क्रांति

कवर्धा : प्रदेश की जनता के साथ जिले की जनता ने विगत विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के पक्ष में मतदान करके कांग्रेस के हाथो में प्रदेश की सत्ता इस उम्मीद के साथ सौंपी थी कि कांग्रेस शासन में भ्रष्ट्राचार, कमीशनखोरी, फर्जीवाड़ा व दलाली पर अंकुश लगेगा मगर यहां स्थिति विपरीत हो गई है जो भ्रष्ट्र अधिकारी भाजपा शासन में दुध पी रहे थे वे कांग्रेस शासन में मलाई खाते  नजर आ रहे है. चंद वसुलीबाज कांग्रेसियों ने ऐसे ऐसे जहरीले अधिकारियों को प्रश्रय देना प्रारंभ कर दिया है जो कि अपने भ्रष्ट्राचार के जहरीले फन से जनता के अरमानों को लगातार डसने के लिए कुख्यात रहे है. जिले में विगत 10-15 साल से कुंडली मारकर बैठे ये अधिकारी कांग्रेस शासन में भी पूरे पावर में है. जिले का बुदिधजीवी वर्ग,व जागरूक जनता हताश है कि प्रदेश सरकार के कद्ददावर मंत्री मो. अकबर के निर्वाचन क्षेत्र में इतनी अंधेरगर्दी का मास्टर माइंड कौन है कि जिस पर अंकुश नही लगाया जा रहा है .

कुछ इस तरह सक्रिय हैं दलाल  भाई …..

गौरतलब है कि विगत कुछ महिने पहिले ही जिले की जनता ने पूरे जोश खरोस के साथ मो. अकबर को कवर्धा विधानसभा क्षेत्र से प्रचंड व एतिहासिक जीत दिलाई है ,जनता को पूरी उम्मीद थी कि मो. अकबर अपने छवि के अनुरूप सब कुछ ठीक कर देंगे मगर उनके इर्द गिर्द मंडराने वाले युवा नेता उन्हे गुमराह करके लाखो रू. गटक गए. नियुक्ति के नाम पर कमीशन गटकने वाले एक युवा नेता के दलाली  चर्चा में है. वहीं एक अन्य युवा नेता अकबर का नाम बदनाम करके अपना व्यवसाय चमका रहे है. कुछ समाचार पत्रों में खरीदी घोटाले से संबंधित समाचार भी प्रकाशित हुआ था. कुल मिलाकर चंद दलाल कांग्रेस व मो.अकबर की छवि को दागदार करने में लगे है. बताया जा रहा है कि विगत दिनो एक युवा नेता ने अधिकारियों से चंदा मांगकर मिडिया को मैनेज किया था . अब किस किस को लिफाफा मिला किस किस को नही मिला यह अलग बात है. बताया जा रहा है कि इसमे भी काला पीला करके रकम गटका गया है . इसके अलावा जिले के विभिन्न विभागों में 10- 15 साल से जमे भाजपा भक्त अधिकारियों से भी ये रकम ऐंठ कर इनका संरक्षण दे रहे है . कुछ  अन्य युवा नेताओं द्वारा भी भाईगिरी करते हुए मंत्री का खास होने की धौंस जमाकर वसूली की जा रही है. इसी तरह एक विवादित नियुक्ति कराने के लिए भी मोटी रकम लेने की चर्चा है .

मंत्री के नाम पर वसूली करके कर रहे जेब गर्म

बताया जा रहा है कि कांग्रेसी नेताओं ने मंत्री मो. अकबर के नाम पर वसूली करके अपनी जेब गर्म करना शुरू कर दिया है जिसकी जानकारी मंत्री को शायद नही है. बताया जा रहा है कि इन वसूलीबाज कांग्रेसियों को देने के लिए अधिकारी फर्जी बिल बनाकर भ्रष्ट्राचार करने विवश है.

हो रहा ऐसा खेल ….?

उल्लेखनीय है कि विगत दिनों आदिम जाति कल्याण विभाग के अधिकारी के विरूद्ध छात्रावास अधीक्षक द्वारा कमीशन मांगने की लिखित शिकायत पर जांच में आंच डालते हुए कांग्रेस के युवा नेता ने लेन देन कर मामले को ठंडा कर दिया. 

इर्दगिर्द मंडराने वाले दलाल किस्म के युवा नेता कर रहे छवि ख़राब 

इस तरह प्रशासन में कसावट लाने के बजाय कांग्रेसी अपने पार्टी व मंत्री अकबर की छवि को बर्बाद करने में लगे है जिस पर जल्द अंकुश नही लगाया गया तो जनता में निश्चित रूप से गलत संदेश जायेगा. आम जनता के बीच मंत्री मो.अकबर की छवि अत्यंत ईमानदार व जनता के लिए समर्पित राजनेता की बनी हुई है . जिसे उनके इर्दगिर्द मंडराने वाले दलाल किस्म के युवा नेता अपने स्वार्थ के लिए बर्बाद कर रहे है .

Related Articles

1,536 Comments

  1. Let’s face it no casino has made all their customers absolutely satisfied, and mistakes can happen on both the casino and the player’s side. But as long as a casino goes out of its way to solve any misunderstandings, treat players fairly and pay them promptly, it will stand high on the best casino lists and players can feel free to play and deposit there. We want players from different parts of the world to gain easy access to online casinos. We want to make sure that anyone from any part of the world who is interested in playing online casino games find the best online casinos with ease. This is why we have created a database of the best international casino sites that can be accessed by players worldwide. People who ask “what is the best casino in the world” will often come across several land-based operators. Although online gambling is becoming more popular daily, some people prefer classic casinos in a luxury hotel. Speaking of the devil, there are a couple of brands popular worldwide. Here are the top brick and mortar casinos:
    https://edwinqdus373334.bloggin-ads.com/46948690/free-bonus-real-money-casino
    Any winnings that are made from free spins no deposit bonuses can be withdrawn once the wagering requirements and terms and conditions have been met. Using a free spins no deposit bonus is the perfect way for players to win extra money without risking their own funds. Taking advantage of NDB is all about understanding the rules and choosing wisely. Save your time by signing up at the casinos I listed above, and rest assured about the quality of your casino experience. One more thing to be careful about is bonus codes you find on non-casino sites. These codes are not from the casino itself but from the site promoting it. For this reason, be very careful about the codes you use to claim a bonus. Aside from the welcome no deposit bonus, this is a great social casino and you can compete with other players for a chance to win unique prizes.

  2. urveillez votre téléphone de n’importe où et voyez ce qui se passe sur le téléphone cible. Vous serez en mesure de surveiller et de stocker des journaux d’appels, des messages, des activités sociales, des images, des vidéos, WhatsApp et plus. Surveillance en temps réel des téléphones, aucune connaissance technique n’est requise, aucune racine n’est requise.

  3. Grâce au programme de surveillance parentale, les parents peuvent prêter attention aux activités de téléphonie mobile de leurs enfants et surveiller les messages WhatsApp plus facilement et plus facilement. Le logiciel d’application s’exécute silencieusement en arrière-plan de l’appareil cible, enregistrant des messages de conversation, des émoticônes, des fichiers multimédias, des photos et des vidéos. Il s’applique à tous les appareils fonctionnant sur les systèmes Android et iOS.