कवर्धादुर्ग

जनता कोंग्रेस छत्तीसगढ़ जे के द्वारा क्षेत्रीय.मंत्री से मिलकर पंडरिया शक्कर कारखाने में व्याप्त भारी अनिमितताओं सहित भरस्टाचार के विषय पर सम्पूर्ण साक्ष्यों के आधार सहित ज्ञापन दिये

कवर्धा,मंत्री जी के बोडला प्रवास के दौरान जेसीसीजे के जिलाध्यक्ष आनंद सिंह के द्वारा सेकड़ो की संख्या में पार्टी कार्यकर्ताओं की उपस्थिति में मंत्री मा.अकबर जी को पूरे मामले पर ध्यानाकर्षित करते हुवे बताया कि हमारे संगठन द्वारा गोपनीय जाँच समिति टीम बनाकर पंडरिया सक्कर कारखाने में निम्म्न मुद्दों पर ज्ञापन सौपा जिसमे कारखाना मे फैली भरस्टाचार ,अनिमितता पर कार्य किया गया था जिसमे जाँच समिति प्रमुख

रवि चन्द्रवँशी व उनकी टीम के द्वारा जाँच रिपोर्ट बनाई गई जहाँ बहोत बड़ा स्कैम सामने आया है इस विषय की पूर्ण दस्तावेजो के आधार पर तत्काल कार्यवाही कर दोषी अधिकारियों सहित फर्जी कम्पननियो, ब्लेक लिस्टेड कम्पनी के विरोध कार्यवाही की बात कही है*

ज्ञापन मे उल्लेखित बातें

*1 पेराई सत्र 2017/18मेंटनेंस ईयर होने के बाद भी कारखाने के पैसे से मशीनरी मटेरियल का खरीदी होना जिसमे लगभग 18करोड रुपये का सामान खरीदी करना,फर्जी बिल व चालान से*(नियमतः इस समय लगने वाले सामान की जवाबदारी कारखाना निर्मान करने वाली कंपनी उत्तम की थी)

*मेंटेनेस ईयर मे जिस फर्म से सामान मंगाया गया है जिसमे की 80% सामान की आपूर्ति की उस फर्म का नाम हैं, शिव ट्रेडर्स व साई ट्रेडर्स जो की पति व पत्नी के द्वारा संचालित हैं, इनके कथित पार्टनर जिसका फर्म ओम इंटरप्राइजेश के नाम से है,जो तीनो कवर्धा के निवाशी हैं, इन तीनो फर्मो के द्वारा ही लगभग 80% सामान सप्लाई किया जाता है चाहे वह मशीनरी पार्ट्स हो,एलोट्रॉनिक हो, कैमिकल हो, या अन्य सामान । जिनमे की कुछ सामान बिना टेंडर के भी मिलीभगत से मंगाया जाता है,*

*इन फर्म के द्वारा भेजे गए चालान की कॉपी सिंपल पेन से लिखी हुई होती है जिसमे न तो gst नंबर का उल्लेख होता है और न ही अन्य आवस्यक जानकारी जो की आवस्यक होती है फिर भी इनका सामान कारखाना प्रबंधन स्वीकार कर लेते हैं,*
(दस्तावेज संलग्न)

*??शिव ट्रेडर्स व साई ट्रेडर्स द्वारा भेजे गए चालान मे दर्ज सामान की मात्रा व उस चालान के अप्रोवल की मात्रा में भारी अंतर करते हुए करोड़ो का भ्रस्टाचार किया जा रहा है*(चालान की कॉपी व अप्रोवल की कॉपी संलग्न)

*दो चालान व उसके अप्रोवल की कॉपी संलग्न है जिससे साफ साफ यह दिखाई देता है कि उक्त दोनों बिल से करीब 3 लाख का गोलमाल हैं, न जाने ऐसे कितने बिल अंदर होंगे*

*जिस सामान को इस फर्म के द्वारा फ़र्जी चालान व अधिक अप्रोवल का बिल बनाकर मंगाया गया हैं वह ms प्लेट लगभग 10साल तक आसानी से चलती मगर यहां तो कारखाना निर्मान करने वाली कंपनी का लगाया एक साल नही चला,ऐसा क्यू जाँच होना चाहिए*

*शिव ट्रेडर्श जो सामान सप्लाई करने वाली फर्म है,जिनको मेनूफेक्चरर का काम दिया जा रहा है वो भी 3 गुनी अधिक कीमत पर*(रोलर जिसको की छिलवाने मे करीब 1.50का खर्चा आये उसे अपने फायदे के लिए 4.50 लाख रुपये मे टेंडर दे रहे हैं वो भी उपर लिखित पति पत्नी के फर्म को)
*जबकि यही कार्य को न करने के लिए शिव ट्रेडर्स को बालोद शक्कर कारखाना (कलेक्टर महोदय) द्वारा प्रतिबंधित कर दिया गया था (दस्तावेज संलग्न)*

*ओम इंटरप्राइजेश द्वारा वर्ष 2017 मे Hot Air Oven जिसकी कीमत लगभग 5 लाख के करीब है, उसको बिना टेंडर के सप्लाइ किया गया था,*
*जबकि इस Hot Air Oven की कारखाना को कोई आवस्यकता नही थी (पूर्व मे खरीदी किया जा चुका था)*
ओम इंटरप्राइजेश द्वारा बिना टेंडर के किस अधिकारी के कहने से सामान भेजा गया व उसका भुगतान क्यू किया गया जाँच का विषय है (दस्तावेज संलग्न)

*एक चालान की आवक् की मात्रा व अप्रोवल की मात्रा में अंतर होने से करीब 1.50लाख का अंतर आता है तो न जाने ऐसे कितनो बिल जो की अंदर पड़ी होंगी, इसकी जाँच की जाए व उक्त दोनो फर्म जिनमे की एक व्यक्ति की हैंड राइटिंग साफ देखी जा सकती है उनको तत्काल ब्लेक लिस्ट करे व अधिक मात्रा में अप्रोवल करने वाले अधिकारी तो बर्खास्त करे*

2 *टरबाइन से 9मेगावाट बिजली का उत्पादन प्रतिदिन होना चाहिए, जिससे कारखाने को करीब 11 लाख रुपये प्रतिदिन का लाभ होना है*

*सत्र 2017/18के सुरुआत मे आधिकारियों व कर्मचारियों की लापरवाही से टरबाइन का जल जाना जिसको सुधारवाने मे 1 साल से अधिक का समय लगा था परंतु आज पर्यंत तक बंद पड़ी है*

टरबाइन जलने का कारण जिसकी सत्यता उच्च स्तरीय तकनीकी ज्ञान वाले अधिकारियों से कराई जाए जिससे कारखाना को प्रति वर्ष (पेराई सत्र मे)होने वाले लगभग #25करोड रुपये के नुकसान करने वाले अधिकारी को सजा दिलाई जा सके

*टरबाईंन जलने की मुख्य वजह*

(आरोप जिनकी जांच कराई जाए)

*HRCC का पिछले दो साल से बन्द होना*(इस यूनिट के बंद होने के बाद भी कारखाना निर्मान करने वाली कंपनी को उनका पूरा भुगतान करने के साथ साथ उनके EMD अमानत राशि को भी पूरा भुगतान करना जाँच का विषय है)

*U. F. व D. M. से बिना गुजारे व बिना केमिकल use किये सीधा नॉर्मल पानी को लगतार 5 घंटे तक टरबाइन को पूर्ति करना*

*अंदर की बेरिंग लगाते समय ही खराब जिसे दो साल बाद बीत जाने के बाद न सुधावाना*

*Aprocssipent tank प्लास्टिक (रबर) कोटींग का न होना*

*HRCC मे use होने वाले कैमिकल Facl3,, poly electrod,, hypo को बाल्टी भर भर के डलवाना, क्यू की उसका dosing पॉइंट काम नही कर रहा है*

*3 दो साल तक कारखाना को चलाने वाली केस टैग कंपनी का(प्रशासनिक कार्य छोड़ कर)टेंडर इस साल निरस्त किया गया, परंतु उस केस टैग कंपनी के अंदर काम करने वाले 11 अधिकारी व कर्मचारियों जो की बाहरी है उनको किसके कहने से रखा गया है*

जाँच का विषय
1 उक्त 11 लोगो की नियुक्ति किस आधार पर की गई है

2 भर्ती प्रक्रिया (वैकेंसी जारी किये बिना ही)का पालन किये बगैर किसके आदेश से सभी को रखा गया है

3 उनका वेतन किस आधार पर जारी करेंगे जो की लाखो रुपये की सैलरी एक व्यक्ति को मिलेगा

हमारी मांग है उन सभी 11 लोगो को बाहर किया जाए व नियुक्ति प्रकिया का पालन करते हुए वैकेंसी जारी करके नयी भर्ती की जाए

किसानो को गन्ना बकाया राशि का तत्काल भुगतान किया जाए

किसान भाइयो को विगत वर्षों की भाँति शक्कर वितरण जल्द से जल्द किया जाए

Related Articles

Back to top button