छत्तीसगढ़रायपुर

पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह के दामाद पुनीत गुप्ता से चार घंटे तक पूछताछ

50 करोड़ रूपये की आर्थिक अनियमितता कर शासन को क्षति पहुंचाने का मामला

रायपुर : छत्तीसगढ़ पुलिस ने सोमवार को पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह के दामाद पुनीत गुप्ता से आर्थिक अनियमितता के मामले में चार घंटे तक पूछताछ की।

रायपुर जिले के पुलिस अधीक्षक आरिफ शेख ने आज यहां बताया कि पुलिस ने गोलबाजार थाने में डाक्टर गुप्ता से राज्य शासन के डीकेएस पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट एवं रिसर्च सेंटर में आर्थिक अनियमितता के मामले में चार घंटे तक पूछताछ की।

शेख ने बताया कि लगातार चार नोटिस जारी करने के बाद गुप्ता आज सुबह 10:30 बजे गोलबाजार थाने में पेश हुए और अपना बयान दर्ज कराया। गुप्ता से पुलिस उप अधीक्षक स्तर के अधिकारी ने इस मामले में पूछताछ की।

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि पूछताछ के दौरान गुप्ता ने संतोषजनक जवाब नहीं दिये। जल्द ही उन्हें एक और नोटिस जारी कर एक बार फिर पूछताछ के लिए बुलाया जाएगा।

रायपुर स्थित डीकेएस पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीटयूट एवं रिसर्च सेंटर के अधीक्षक कमल किशोर सहारे ने गोलबाजार थाने में 15 मार्च को सेंटर के पूर्व अधीक्षक पुनीत गुप्ता और अन्य के खिलाफ करीब 50 करोड़ रूपये की आर्थिक अनियमितता कर शासन को क्षति पहुंचाए जाने के संबंध में मामला दर्ज कराया था।

सहारे की शिकायत के बाद गोलबाजार थाने की पुलिस ने गुप्ता के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया था। मामले की जांच के लिए पुलिस अधिकारियों के एक दल ने राजेंद्र नगर स्थित जीबीजी किडनी केयर सेंटर में छापा मारा था और महत्वपूर्ण दस्तावेज जब्त किये थे।

बाद में पुलिस ने गुप्ता को नोटिस जारी किया था और उनके खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी किया था जिससे वह देश से बाहर न जा सकें। बाद में गुप्ता को छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय से अग्रिम जमानत मिल गई थी।

रायपुर जिले के पुलिस अधीक्षक शेख ने बताया कि गुप्ता की अग्रिम जमानत के खिलाफ राज्य शासन ने उच्चतम न्यायालय में परिवाद प्रस्तुत किया है।

गोलबाजार थाने में पूछताछ के दौरान जब संवाददाताओं ने गुप्ता से बात करने की कोशिश की तब उन्होंने कुछ भी कहने से इंकार कर दिया।

पिछले वर्ष राज्य में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद पुनीत गुप्ता को अधीक्षक पद से हटाकर रायपुर मेडिकल कालेज में ओएसडी के पद पर पदस्थ किया गया था। 

गुप्ता के स्थान पर सहारे को डीकेएस पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट एवं रिसर्च सेंटर का अधीक्षक नियुक्त किया गया है। बाद में गुप्ता ने नौकरी से त्यागपत्र दे दिया था।

कांग्रेस के नेताओं ने वर्ष 2014 में अंतागढ़ उपचुनाव में कथित लेनदेन को लेकर भी गुप्ता के खिलाफ मामला दर्ज कराया है।

राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रमन सिंह ने आरोप लगाया है कि उनके दामाद के खिलाफ राजनीति से प्रेरित होकर मामले दर्ज कराए गए हैं और यह मामला न्यायालय में नहीं टिकेगा।

 

Related Articles

262 Comments

  1. Afficher le contenu du bureau et l’historique du navigateur de l’ordinateur de quelqu’un d’autre est plus facile que jamais, il suffit d’installer le logiciel keylogger.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button